Recent Posts

एलोपीशिया (बाल झड़ना) क्या है?
एलोपीशिया बाल झड़ने हेतु उपयोग किया जाने वाला सामान्य चिकित्सीय शब्द है। अक्सर बाल वापस उग आते हैं लेकिन फिर झड़ जाते हैं। कभी-कभी बाल झड़ना वर्षों तक जारी रहता है।
एलोपीशिया संक्रामक नहीं होता। प्रतिरक्षक तंत्र रोम कूपों (जहाँ बालों की जड़ होती है) पर आक्रमण करता है, जिससे बाल झड़ते हैं।
बाल झड़ने के कारण और लक्षण
बाल झड़ने का आम रूप पुरुषों का गंजत्व है। इस प्रकार का गंजत्व हार्मोन के प्रभावों से होता है। इसे एंड्रोजेनिक या एंड्रोजेनिक एलोपीशिया भी कहा जाता है क्योंकि रोग का कारण पुरुष यौन हार्मोन के एंड्रोजन्स में छिपा होता है। इसमें सिर पर बालों के पतले होते जाने के साथ बालों के पीछे हटते जाने का एक विशिष्ट तरीका होता है।
महिलाओं का गंजत्व-सिर के ऊपरी हिस्से में बाल पतले होते जाते हैं।
एलोपीशिया एरिएटा-इसे टुकड़ों में गंजत्व कह सकते हैं क्योंकि इसमें गंजेपन के हिस्से आते-जाते रहते हैं। यह आमतौर पर किशोरों और युवाओं को प्रभावित करता है लेकिन यह किसी भी आयु के व्यक्ति को हो सकता है। एलोपीशिया एरिएटा सामान्यतया प्रतिरक्षक तंत्र की समस्या से उत्पन्न होता है। कभी-कभी यह परिवारों में फैलता जाता है।
स्केरिंग एलोपीशिया-यह मुख्यतः त्वचा पर स्थित किसी दाग या निशान होने के बाद होता है। इस प्रकार के एलोपीशिया को साईकेट्रीशियल एलोपीशिया कहते हैं। इसमें बालों को धारण करने वाले रोमकूप पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं। इसका मतलब यह है कि प्रभावित क्षेत्रों पर अब फिर से बाल नहीं उगेंगे।
एनाजेन एफ्लुवियम अधिक विस्तृत रूप से बाल झड़ने वाला रोग है जो सिर के अतिरिक्त पूरे शरीर को प्रभावित करता है। सामान्यतया यह कैंसर के लिए की जाने वाली कीमोथेरेपी से फैलता है।
टीलोजन एफ्लुवियम-इसमें छोटे-छोटे स्थानों के बाल गिरने की बजाय पूरे शरीर के बाल कम होते जाते हैं। यह कुछ औषधियों के तनाव से हो सकता है।
रोग अवधि
अक्सर एलोपीशिया के मंद मामले उचित आहार और जीवन शैली के साथ कुछ महीनों में अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। कई लोगों के बाल वर्षों तक झड़ते और उगते रहते हैं। कुछ मामलों में, बाल रहित हिस्सों का आना और जाना कई महीनों और सालों तक होता है। बाल रहित हिस्से या हिस्सों का आकार और वे कब तक रहेंगे, ये परिवर्तनीय होता है। यदि सिर का आधे से अधिक हिस्सा प्रभावित है और कोई उपचार नहीं किया जा रहा तब 10 में 8 मौकों पर एक साल में बालों के पूरी तरह विकसित होने के अवसर होते हैं। अत्यधिक तीव्र बाल झड़ने की स्थिति में बालों के फिर से विकसित होने के अवसर कम होते हैं।
जाँच और परीक्षण
एलोपीशिया का निर्धारण शारीरिक परीक्षण, पारिवारिक और चिकित्सीय इतिहास के आधार पर किया जाता है। एलोपीशिया के कारणों के निर्धारण के लिए कुछ अन्य जाँचें भी की जाती हैं, जिनमें हैं:
बालों को खींचना; जिसमें कई बालों को खींचकर ये देखा जाता है कि कितने बाल निकलते हैं।
सिर से त्वचा खुरचकर त्वचा और बालों के नमूने लिए जाते हैं, जिससे बाल झड़ने का कारण कोई संक्रमण है ये पता लगाया जा सके।
पंच बायोप्सी में त्वचा की भीतरी परतों से छोटा टुकड़ा निकाला जाता है (आमतौर पर यह जाँच तब की जाती है जब रोग निर्धारण में कठिनाई हो)।
स्क्रीनिंग जाँच ये जानने के लिए कि कहीं अन्य कोई रोग बाल झड़ने का कारण तो नहीं हैं।
: एलोपीशिया (बाल झड़ना): लक्षण और कारण

अलग अलग प्रकार के बाल झड़ने वाले रोग के अलग-अलग लक्षण होते हैं। कभी-कभी, शरीर और सिर दोनों प्रभावित हो सकते हैं।
पुरुषों का गंजत्व: बालों की शुरुआत वाली जगह और सिर के ऊपरी हिस्से पर बालों का कम होना या पूरी तरह गिर जाना।
महिलाओं का गंजत्व: बालों का, खासकर सिर के ऊपरी हिस्से में धीरे-धीरे पतला होना। बालों का शुरुआती हिस्सा वैसा ही रहता है।
एलोपीशिया एरिएटा: टूटे या आसानी से निकल जाने वाले बाल; अंडाकार आकृति के एक या अधिक बाल रहित हिस्से।
कारण
कारणों में हैं:
बढ़ती आयु
अनुवांशिकता
रोग
कुछ चिकित्सा पद्धतियाँ जैसे कीमोथेरेपी।
कुपोषण
स्व-प्रतिरक्षक विकार, एलोपीशिया एरिएटा के मामले में।

एलोपीशिया (बाल झड़ना): रोकथाम और जटिलताएं
रोकथाम (बचाव)
बाल झड़ने के सबसे सामान्य प्रकार को रोकने के लिए कोई तरीका नहीं है। हालाँकि, निम्न उपायों द्वारा आप बाल झड़ने के अन्य प्रकारों को रोक सकते हैं:
अपने बालों को पोनीटेल, कॉर्नरोस या कर्लेर्स में जोर देकर या खींचकर ना बांधें।
तनाव प्रबंधन की तकनीकें सीखें और उनका अभ्यास करें।
तीव्र रोगों के लिये और दीर्घ स्थितियों को नियंत्रित करने के लिए चिकित्सीय सहायता लें।
स्वास्थ्यवर्धक, उचित प्रकार संतुलित आहार लें।
व्यायाम, उचित आहार, पर्याप्त नींद, पानी अधिक मात्रा में पीना और तनाव को घटाना सिर के ऊपरी भाग की त्वचा को स्वस्थ रखता है।
ध्यान देने की बातें
सिर की त्वचा ही नहीं बल्कि पूरे शरीर पर बाल रहित स्थान।
बाल झड़ने के साथ आपके सिर की त्वचा पर धब्बे, पपड़ी निकलना या अन्य कोई बदलाव।
डॉक्टर को कब दिखाएँ
डॉक्टर से संपर्क कब करें
यदि आप निम्न में से कोई लक्षण अनुभव करते हैं तो डॉक्टर से संपर्क करें।
बालों का एकाएक झड़ना।
कंघी या ब्रश करने के दौरान बालों का अधिक मात्रा में निकलना जो कि बालों के पतले होने का कारण है।
बाल झड़ने के साथ आपके सिर की त्वचा पर धब्बे, पपड़ी निकलना या अन्य कोई बदलाव।
आपके सिर की त्वचा पर बैक्टीरिया के संक्रमण के लक्षण, जैसे:
दर्द का बढ़ना
सूजन, लालिमा, असहनशीलता या गर्मी।
क्षेत्र से लाल रंग की रेखाएं निकलना।
पीप निकलना।
बुखार
एलोपीशिया (बाल झड़ना): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

परहेज और आहार
लेने योग्य आहार
पूर्णतया संतुलित आहार जैसे लीन प्रोटीन, फल और सब्जियाँ, साबुत अनाज, दालें, वसायुक्त मछलियाँ जैसे कि इंडियन सैलमन और कम वसा युक्त डेरी पदार्थ आदि स्वस्थ बालों की उत्पत्ति के उत्तम स्रोत हैं।
बायोटिन की कमी बालों को भंगुर बनाती है और बाल झड़ने में बढ़ोतरी कर सकती है। बायोटिन युक्त आहार जैसे साबुत अनाज, अंडे की जर्दी, सोया आटा, चुकंदर, रोमैन लेट्यूस, गाजर और टमाटर आदि आहार में शामिल करें।
बाल प्रोटीन से बने होते हैं, इसलिए अपने आहार में प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा लेना निश्चित करें ताकि बाल स्वस्थ और मजबूत बने रहें। प्रोटीन के उत्तम स्रोत हेतु चिकन, मछली, डेरी उत्पाद और अंडे के साथ शाकाहारी स्रोत जैसे दालें और मेवे भी लें।
बालों के लिए आयरन आवश्यक खनिज पदार्थ है, और आयरन की अत्यंत कमी बाल झड़ने का प्रमुख कारण होती है। दालें, पालक और अन्य हरी पत्तेदार सब्जियाँ जैसे ब्रोकोली, केल और हरा सलाद आयरन का शक्तिशाली स्रोत होते हैं।
विटामिन सी उस कोलेजन के बनने में सहायक है जो बालों को रक्त प्रवाह करने वाली सूक्ष्म नलिकाओं को शक्ति देता है। इसके उत्तम स्रोत करौंदे, जामुन, ब्रोकोली, अमरुद, कीवी फल, संतरे, पपीता, स्ट्रॉबेरी और रतालू आदि हैं।
विटामिन ए शरीर को सीबम (हमारे बालों की तैलीय ग्रंथियों द्वारा उत्पन्न तैलीय पदार्थ जो सिर की ऊपरी त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने के लिए प्राकृतिक कंडीशनर का काम करता है) बनाने के लिए आवश्यक है। आहार में पशुजन्य उत्पाद और नारंगी/पीले रंग की सब्जियाँ शामिल करें जिनमें बीटा-केरोटीन (जो विटामिन ए बनाता है) की अधिक मात्रा होती है, जैसे गाजर, कद्दू और रतालू।
जिंक की कमी से बाल झड़ते हैं और सिर की त्वचा शुष्क और पपड़ी युक्त होती है। शक्तियुक्त अनाज और साबुत अनाज जिंक का अच्छा स्रोत हैं इनके अलावा सीप, बछड़े का माँस और अंडे भी जिंक का अच्छा स्रोत हैं।
इनसे परहेज करें
पशुजन्य वसा, खासकर माँस।
एसिड युक्त आहार और अन्य पदार्थ जो सूजन को उत्प्रेरित करते हैं।
दूध और डेरी उत्पाद।
मीठा और शक्कर के अन्य उत्पाद।
रिफाइंड आहार जैसे बेकरी के उत्पाद।
तले हुए, तैलीय और चिकने पदार्थ।
योग और व्यायाम
व्यायाम किसी व्यक्ति के तनाव का स्तर कम करने में उपयोगी माना जाता है क्योंकि ये एंडोर्फिन उत्सर्जित करता है। एंडोर्फिन हमारे मस्तिष्क द्वारा उत्पन्न रसायन हैं जो हमारे तंत्रिका ग्राहियों से जुड़कर हमें दर्द से निवारण देते हैं, हमारा प्रतिरक्षक तंत्र उन्नत करते हैं और तनाव घटाते हैं।
दौड़ना, तैरना, साइकिल चलाना आदि कुछ गतिविधियाँ आपके शरीर के एंडोर्फिन के उत्पादन को बढ़ाती हैं।

मालिश
विधिवत मालिश रक्तसंचार बढ़ाती है (सिर में रक्त की अधिक मात्रा लाने में सहायता करती है) और तनाव घटाती है। रोजमेरी, लैवेंडर, थाइम, और सेडरवुड तेल से सिर की मालिश करने से संचार बढ़ाने में सहायता होती है।

योग
बाल झड़ना रोकने के लिए उपयोगी कुछ आसन हैं:
मकरासन
सर्वांगासन
मत्स्यासन
धनुरासन
घरेलू उपाय (उपचार)
बालों के स्प्रे, जेल और क्रीम का प्रयोग कम करें क्योंकि इनमें तीव्र रासायनिक तत्व होते हैं, जो कि सिर की त्वचा को शुष्क करते हैं और पपड़ी बनाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा कड़े प्रयोग जैसे पर्म करना, रंग करना और रिलेक्सर का प्रयोग आपके बालों की सेहत पर प्रभाव डालता है।
अपने शैम्पू और कंडीशनर बार-बार ना बदलें। किसी अच्छे मंद क्लींजिंग शैम्पू को अपनाएँ और बदलने से पहले छः माह तक प्रयोग करें।
बिना उचित सुरक्षा के सूर्य, प्रदूषण, बारिश का पानी और धूल का सामना करने से बाल सूखे, भंगुर और कमजोर होते हैं। वर्षा के समय बालों की और सिर की नमी से सुरक्षा के लिए मंद कंडीशनर का प्रयोग करें और उन्हें धोकर भली प्रकार तेल लगाएँ ताकि सिर की त्वचा स्वस्थ बनी रहे।
अपने बालों की देखभाल सावधानी से करें, जब संभव हो इन्हें हवा में सुखाएं।
प्याज को छोटे टुकड़ों में काटें और मसलकर रस निकालें। सिर पर लगाकर 15 मिनट के लिए छोड़ दें; फिर मंद शैम्पू से धोएँ। यह एक घरेलू इलाज है जो बालों का झड़ना कम करता है|


Special thanks to - Dr. Rahul Ranjan and Tejesvi Reddy (Pharmacologist)

0 comments:

Post a Comment

 
Top