Recent Posts

हनुमानजी के लाखों प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मेंहदीपुर बालाजी राजस्थान के दौसा जिला में स्थित है. दो पहाड़ियों के बीच बने इस मंदिर की लोगों के बीच काफी महत्ता है.


मेंहदीपुर बालाजी हनुमानजी के लाखों प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है.

इस मंदिर की लोगों के बीच काफी महत्ता है, मेंहदीपुर बालाजी राजस्थान के दौसा जिला में स्थित है. हनुमानजी के लाखों प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मेंहदीपुर बालाजी राजस्थान के दौसा जिला में स्थित है. दो पहाड़ियों के बीच बने इस मंदिर की लोगों के बीच काफी महत्ता है. यहां भक्ति के साथ अंधविश्वास के उदाहरण भी देखने को मिलते हैं. मान्यता है कि बालाजी मंदिर में ऊपरी हवाओं, दुष्ट आत्माओं, भूत-प्रेतों से छुटकारा मिल जाता है. यहां की संकरी गलियां हनुमान जी की भक्ति में डुबोती हैं. हनुमान जी के मंदिर के साथ एक राम मंदिर भी है, जहां भगवान श्रीराम और भगवती सीता की खूबसूरत प्रतिमाएं हैं, जो काफी आकर्षक दिखती हैं. इसी मंदिर के साथ हनुमान जी की बड़ी-सी प्रतिमा है, हालांकि इस मंदिर का निर्माण कार्य अभी चल रहा है, लेकिन हनुमान जी की यह विशाल प्रतिमा दर्शकों को आकर्षित करने वाली है.

मेंहदीपुर बालाजी धाम भगवान हनुमान के 10 प्रमुख सिद्धपीठों में गिना जाता है. मान्यता है कि इस स्थान पर हनुमानजी जागृत अवस्था में विराजते हैं. श्रद्धालुओं के बीच मेंहदीपुर बालाजी को दुष्ट आत्माओं से छुटकारा दिलाने वाले दिव्य शक्ति से प्रेरित शक्तिशाली मंदिर माना जाता है.  मंदिर के पास भोग-भंडार बालाजी नाम की दुकान पर प्रसाद बेचने वाले जितेंद्र का कहना है, 'यहां बहुत से ऐसे लोग आते हैं, जिन पर भूत-प्रेत का साया होता है. रात 10 बजे मंदिर बंद होने के बाद वे धर्मशाला लौट जाते हैं.' यह सत्य है या ढकोसला? इस पर जितेंद्र कहते हैं, 'पता नहीं, सचमुच भूत-बाधा है या लोग यूं ही ऐसा करते हैं.'

0 comments:

Post a Comment

 
Top